Connect with us

उत्तराखण्ड

जिलाधिकारी नरेंद्र सिंह भंडारी द्वारा विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ खिरद्वारी गांव से आई महिलाओं एवं राजि जनजाति के लिए विगत लंबे वर्षों से कार्य कर रही अर्पण संस्था की रेनू ठाकुर के साथ बैठक कर उनकी समस्याएं सुनी।

चम्पावत

  चंपावत  ,विकास खंड चंपावत में स्थित एकमात्र राजि जनजाति गांव खिरद्वारी की विभिन्न समस्याओं को लेकर जिलाधिकारी नरेंद्र सिंह भंडारी  द्वारा विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ जिला कार्यालय में खिरद्वारी गांव से आई महिलाओं एवं राजि जनजाति के लिए विगत लंबे वर्षों से कार्य कर रही अर्पण संस्था की रेनू ठाकुर के साथ बैठक कर उनकी समस्याएं सुनी। 

जिलाधिकारी द्वारा ग्रामीणों की समस्याओं को गंभीरतापूर्वक लेते हुए उन्हें आश्वस्त कराया कि शीघ्र ही इन समस्याओं का समाधान किया जाएगा। जिलाधिकारी ने इस संबंध में विभिन्न विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो भी सरकारी योजनाओं का लाभ तत्काल संभव है वह तत्काल ग्रामीणों को उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की समस्याओं के समाधान हेतु आगामी 20 जुलाई को खिरद्वारी में बहुउद्देश्यीय कैंप लगाया जाएगा।
ग्रामीण महिलाओं द्वारा जिलाधिकारी को गांव की मुख्य समस्या सड़क से संबंधित बताई गई। जिस पर जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि खिरद्वारी हेतु दो तरफ से सड़क निर्माण हेतु कार्यवाही गतिमान है। पोथ से गंगसीर तक तथा सीम से फुरक्याझाला होते हुए खिरद्वारी तक सड़क का निर्माण किया जाएगा। पोथ से गंगसीर तक की सड़क निर्माण हेतु धनराशि प्राप्त हो गई है। लोक निर्माण विभाग द्वारा डीपीआर बनाई जा रही है। कार्य प्रारंभ होकर लगभग 2 वर्षों में यहां से सड़क का निर्माण कार्य पूर्ण हो जाएगा। इसी प्रकार सीम से भी सड़क कार्य के निर्माण हेतु लोक निर्माण विभाग को शासन से धनराशि की मांग करने हेतु निर्देश दिए गए हैं।
इसके अतिरिक्त ग्रामीणों द्वारा गांव की विभिन्न समस्याएं जिसमें जाति एवं जन्म प्रमाण पत्र बनाए जाने, भूमि का मालिकाना हक दिलाए जाने, आठवीं पास के बाद विशेष रूप से बालिकाओं को आगे की उच्च शिक्षा की सुविधा मुहैया कराए जाने, आधार कार्ड बनाए जाने, 15 अवशेष परिवारों की एलपीजी गैस संयोजन दिलाए जाने, सौचालय निर्माण,वृद्धावस्था पेंशन का संबंधित समस्याएं रखी। जिलाधिकारी ने कहा कि उक्त सभी समस्याएं स्थानीय स्तर की हैं। जिनका प्राथमिकता से शीघ्र ही समाधान किया जाएगा। इस हेतु उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि इन सभी समस्याओं के त्वरित समाधान हेतु एक सप्ताह के भीतर संबंधित विभागों के साथ बैठकर प्रस्ताव तैयार कर कार्य करते हुए उन्हें प्रगति से अवगत कराएंगे। साथ ही जिलाधिकारी ने कहा कि ग्रामीणों को आजीविका से जोड़े जाने हेतु कृषि, औद्यानिकी व पशुपालन विभाग की योजनाओं का लाभ भी उन्हें उपलब्ध कराया जाए।उन्होंने कहा कि वह स्वयं गांव में आयोजित होने वाले कैंप में प्रतिभाग भी करेंगे। जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि खिरद्वारी के सामुदायिक विकास हेतु एक वृहद प्लान तैयार किया जाए। जिसके अंतर्गत गांव में प्रत्येक प्रकार की जन सुविधाएं हो। प्रत्येक ग्रामीण को सरकारी योजनाओं का लाभ मिले, गांव में बेहतर संपर्क मार्ग हो, शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल, सिंचाई व शौचालय के साथ ही स्वरोजगार के साधन विकसित हो। इस हेतु विभिन्न विभागों के साथ कार्य कराए जाएं। जिलाधिकारी ने गांव में जिन परिवारों के पास शौचालय नहीं हैं उन्हें मनरेगा से शौचालय निर्माण कराने हेतु जिला विकास अधिकारी को निर्देश दिए।ग्रामीणों को भू स्वामित्व दिलाए जाने के संबंध में जिलाधिकारी ने कहा कि राजस्व एवं वन विभाग के माध्यम से शीघ्र ही सर्वे कराया जाएगा। उसी के अनुसार शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा। जिलाधिकारी ने ग्रामीणों की गौशाला के निर्माण की मांग पर जिला विकास अधिकारी को मनरेगा से गौशाला निर्माण किए जाने तथा पशुपालन विभाग को कुक्कुट यूनिट तथा बकरी यूनिट उपलब्ध कराने कृषि तथा उद्यान विभाग को बीज, कृषि यंत्र व कृषि रसायन आदि उपलब्ध कराने के साथ ही किसान सम्मान निधि के पात्रों को लाभ दिलाए जाने के साथ ही अपर जिलाधिकारी को जिन ग्रामीणों के आधार कार्ड वर्तमान तक नहीं बने हैं उन्हें बनाए जाने हेतु आधार कैंप लगाए जाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने समाज कल्याण अधिकारी को जिन व्यक्तियों को समाज कल्याण विभाग की योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है उन्हें दिलाए जाने हेतु तत्काल कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने अपर परियोजना निदेशक को कौशल विकास के कार्यक्रम आयोजित कराने हेतु निर्देशित किया। साथ ही स्वास्थ्य विभाग को गांव में ही प्राथमिक उपचार हेतु मेडिकल किट की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के भी निर्देश दिए। बैठक में अर्पण संस्था से आई रेनू ठाकुर खिरद्वारी गांव की विभिन्न समस्याओं की जानकारी देते हुए संस्था द्वारा की गई सर्वे के अनुसार अवगत कराया गया कि खिरद्वारी में वर्तमान में कुल 35 परिवार राजी जनजाति के निवासरत हैं। इनकी कुल जनसंख्या 154 है जिसमें से 74 महिला तथा 80 पुरुष हैं। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी राजेंद्र सिंह रावत, एसडीओ वन विभाग नेहा चौहान, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, अपर परियोजना निदेशक विमी जोशी, जिला समाज कल्याण अधिकारी आरएस सामन्त, जिला कार्यक्रम अधिकारी राजेंद्र प्रसाद बिष्ट, मुख्य कृषि अधिकारी व जिला उद्यान अधिकारी टीएन पांडे सहित गिरधारी गांव से आई महिलाएं तथा अर्पण संस्था के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page