Connect with us

उत्तराखण्ड

कृषि मंत्री श्री गणेश जोशी ने डीएसए मैदान मल्लीताल स्थित नैनीताल में प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्यम उन्नयन स्टोर (PM-FME स्टोर) का उद्घाटन वर्चुअल के माध्यम से किया गया।,,

नैनीताल कृषि मंत्री श्री गणेश जोशी ने डीएसए मैदान मल्लीताल स्थित नैनीताल में प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्यम उन्नयन स्टोर (PM-FME स्टोर) का उद्घाटन वर्चुअल के माध्यम से किया गया। इस स्टोर को उद्यान विभाग द्वारा राज्य के छोटे उद्यमियों के उत्पादों को मॉर्डन मार्केटिंग प्लेटफार्म उपलब्ध करवाने लिए बनाया गया है। नैनीताल के अलावा उत्तराखंड के अन्य जनपदों में PM-FME स्टोर) स्टोर की स्थापना की गई है।
कृषि मंत्री श्री जोशी ने कहा यह योजना छोटे एवं मझोले, फूड प्रोसेसिंग उद्यमियों के उत्पादों को बाजार उपलब्ध करवाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाई गई। इसके अतिरिक्त योजनान्तर्गत जमींदार/किसानों के उत्पादों के मार्केटिंग एवं ब्राडिंग के लिए सरकार द्वारा तकनीकी एवं वित्तीय सहयोग भी किया जा रहा है। नैनीताल में खुला यह स्टोर कुमाऊं का पहला विक्रय केंद्र है। इस स्टोर में अलग-अलग जगहों से स्वयं सहायता समूह की तरफ से बनाए गए उत्पाद भेजे जा रहे हैं। कुमाऊं के भीमताल, धारी, बेतालघाट व अन्य जगहों से उत्पाद लाए जा रहे हैं। जिससे स्थानीय काश्तकारों को भी बढ़ावा मिल रहा है। नैनीताल स्थित डीएसए मैदान के नजदीक प्रधानमंत्री फॉर्मलाइजेशन ऑफ माइक्रो फूड प्रोसेसिंग इंटरप्राइजेज (PMFME) योजना के तहत पहाड़ी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए एक स्टोर खोला गया है। इस स्टोर में पहाड़ी दालें, पहाड़ी पिसी लूंण, स्क्वाश, जूस, जैम, अचार समेत काफी उत्पाद रखे हुए हैं।
इस योजना का उद्देश्य किसी विशिष्ट क्षेत्र को बढ़ावा देना साथ ही स्वयं सहायता समूह, किसान उत्पादन संगठनों और उत्पादक सहकारी समितियों की मदद करना है। नैनीताल में खुला यह स्टोर कुमाऊं का पहला विक्रय केंद्र है। इस स्टोर में अलग-अलग जगहों से स्वयं सहायता समूह की तरफ से बनाए गए उत्पाद भेजे जा रहे हैं। नैनीताल के भीमताल, धारी, बेतालघाट क्षेत्र के अलावा अन्य जगहों से उत्पाद लाए जा रहे हैं। जिससे स्थानीय काश्तकारों को भी बढ़ावा मिल रहा है। यहां गहत, उड़द, लोबिया, काले भट्ट समेत कई पहाड़ी दालें भी उपलब्ध हैं, जो औषधीय गुणों से भरपूर होती हैं। इसके अलावा यहां सरसों, तिल,बादाम, नारियल समेत कई वैरायटी के तेल भी मिल रहे हैं। साथ ही लहसुन, हरी मिर्च, लाल मिर्च, भांग, जीरे का नमक, बुरांश, लीची और मालटा का जूस भी मिल जाएंगे।नैनीताल उद्यान अधिकारी डॉ नरेंद्र कुमार का कहना है इस तरह के स्टोर खोलने का मकसद पहाड़ के काश्तकारों को बाजार उपलब्ध कराना है। इससे उत्तराखंड के साथ ही बाहरी राज्यों में भी इनके उत्पादों को पहचान मिल सकेगी।
इस मौके पर विधायक सरिता आर्य, अपर जिला अधिकारी शिवचरण द्विवेदी, निदेशक चाय बागान उत्तराखंड महेंद्र पाल, संयुक्त निदेशक डॉ बृजेश गुप्ता, मुख्य उद्यान अधिकारी आरके सिंह, मुख्य कृषि अधिकारी विवेश यादव, प्रवीण शर्मा प्रताप बोरा,आनंद सिंह बिष्ट,मोहित लाल शाह, मोहित रौतेला,भूपेंद्र के साथ अन्य संबंधित एवम गणमान्य मौजूद रहे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page