Connect with us

उत्तराखण्ड

तथाकथित आई टी आई का सौदागर आया चर्चा में,,,

हल्द्वानी।,,आर टी आई के एक्टिविस्ट कहने वाले लोगों जो समाज हित के कार्य करने वाले कथाकथित सदस्य जो कि अपने को समाज सेवी होने का दावा करते हैं जब उनकी कार्य गुजारी को लेकर कुछ तथ्य सामने आए हैं,उसको लेकर कई उदाहरण सामने आए हैं कई अधिकारियों ने इस बात को मजबूती से कहा कि हमसे आर टी आई जानकारी को लेकर हमसे लेन देन की बात से परेशान करते थे लेकिन आज ऐसे कई लोगों सामने आए हैं जिसमे एक नाम सामने आ रहे हैं जो बाजार के कई व्यापारियों को भी परेशान किया है और हल्द्वानी थाने में पास्को के भी मुकदमे दर्ज हैं,,हम बात करते हैं आर टी आई की क्या ये सत्यता के अनुसार जो अपने को समाज सेवी होने का दावा करते हैं लेकिन सच तो यही ये आर टी आई के नाम पर ब्लैक मेलिंग का धंधा करने का कार्य करते हैं,,आज सरकारी कार्य में एक समय सीमा में जवाब में देरी का फायदा उठाकर अपने को समाज सेवी होने पर अधिकारियों को ब्लैक मेलिंग से अपने आय को बढ़ाने का कार्य करते हैं,अगर आप आर टी आई एक्टीविस्ट है तो उस कार्य पर भी फोकस करे जिसके लिए अपने आर टी आई लगाई है, लेकिन इसका मतलब यह है कि आप सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए इस आर टी आई का उपयोग कर रहे हैं,, आर टी आई,,का उद्देश क्या था और क्या इसका प्रयोग किया जा है कई अधिकारियों ने इन आर टी आई एक्टीविस्ट के नाम पर पुलिस को प्राथमिकी दर्ज कराई हुई है,लेकिन सच तो सच है वो एक दिन सामने आ जाती है,,, एक अधिकारी ने बताया है इस आर टी आई का जवाब देने में हमे कोई दिक्कत नहीं है,कई बार सरकारी कार्य में व्यस्त रहते है और कार्यलय में कमाचारी की कमी के चलते जवाब देने में विलंब हो जाता है जिसका ये फायदा उठाकर ब्लैक मेलिंग और समाचार पत्रों में छपवाने की धमकी देते हैं,, आर टी आई का हम सम्मान करते हैं और उसके माध्यम से जो भी हमारे कार्य अगर रह गए हैं तो हम इस आर टी आई के माध्यम से पूरा करने का काम करते हैं आर टी आई एक संदेश है जो कार्य समय पर पूरा नहीं होता है उसका उल्लेख इस माध्यम से दिया जाता है,लेकिन कुछ कथाकथित इस दौरान अपने को समाज सेवी होने का दावा करते हुए अपना इसका व्यापार बना लिया है,,,

Ad Ad
Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Follow Facebook Page